पेट दर्द पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

पेट दर्द – Pain in Stomach

बच्चे, जवान, बूढ़े सभी के लिए पेट का दर्द एक आम समस्या है। शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति मिले, जो कभी इससे पीड़ित न हुआ हो। यह अपने आप में कोई रोग नहीं, बल्कि अनेक रोगों में एक लक्षण मात्र होता है। अतः तुरंत इस बात का पता लगाना बड़ा कठिन होता है कि पेट का दर्द किस रोग के कारण हो रहा है।

कारण : प्रायः जिन कारणों से पेट दर्द होता है, उनमें अजीर्ण, कब्ज, अम्लपित्त की शिकायत, गैस बनने से पेट फूलना, पेट में कृमि होना, ज्यादा दस्त होना, आंतों की विकृतियां, गुर्दे में पथरी होना, मिर्च-मसालेदार, तली, गरिष्ठ चीजें स्वादवश अधिक मात्रा में खाना, भूखा रहना, अधिक मिठाई खाना, अल्सर की शिकायत, पित्ताशय की गड़बड़ी, मानसिक तनाव, विषैले पदार्थ खा लेना, सर्दी लगना, अनियमित मासिक धर्म, मासिक धर्म संबंधी गड़बड़ियां, अपेंडिसाइटिस, दस्तावर दवाओं का सेवन आदि प्रमुख होते हैं।

Loading...

लक्षण : इस रोग में लक्षणों के रूप में रह-रह कर पेट में मरोड़ के साथ दर्द उठना, पेट छूने पर कड़ा मालूम पड़ना, पेट फूलना, पेट में भारीपन की अनुभूति, दस्त ठीक न होना, भूख न लगना, जी मिचलाना, खट्टी डकारें आना, छाती में जलन, मुंह में खट्टा पानी आना, वमन, मल-मूत्र में रुकावट, बेचैनी आदि देखने को मिलते हैं।

What to eat during Stomach Pain?

क्या खाएं

  • भूखे रहने पर पेट दर्द की शिकायत में छाछ का सेवन करें।
  • बार्ली, मूंग और मसूर की दाल का पानी, नीबू का रस गर्म पानी में मिलाकर पिएं।
  • पेट दर्द दूर होने के बाद दलिया, खिचड़ी जैसा हलका सुपाच्य भोजन खाएं।
  • एक गिलास गर्म पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर पिएं।
  • हींग, अजवाइन और सेंधा नमक थोड़ा-थोड़ा मिलाकर पानी से सेवन करें।
  • प्यास अधिक लगने पर बर्फ के टुकड़े चूसें।

What not to eat during Stomach Pain?

क्या न खाएं

  • जब तक पेट दर्द बना रहे, तब तक भोजन न करें।
  • आलू, बैगन, बेसन की चीजें, मिठाई, दाल, चावल न खाएं।
  • तले, मिर्च-मसालेदार, चटपटे, गरिष्ठ आहार से परहेज करें।
  • दूध का सेवन बिल्कुल न करें।

Remedial Measures in Stomach Pain Prevention.

रोग निवारण में सहायक उपाय


What to do during Stomach Pain?

क्या करें

  • गुनगुने पानी का एनिमा लें।
  • रोगी को पूर्ण आराम करने दें।
  • पानी की थैली या बोतल में गर्म पानी भरकर पेट की सिकाई बार-बार करें।
  • अपने दोनों पैरों को गर्म रखें।
  • पेडू पर गीली मिट्टी की गर्म की हुई पट्टी लगाएं।

What not to do during Stomach Pain?

क्या न करें

  • कब्ज की शिकायत न होने दें।
  • भूखे पेट अधिक समय तक न रहें।
  • दस्तावर गोलियों का सेवन अपनी मर्जी से न करें।
  • परिश्रम, रात्रि जागरण न करें।
  • मानसिक तनाव पैदा न होने दें।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept