मोटापा पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

मोटापा – Obesity

जब शरीर में आवश्यकता से अधिक मात्रा में चर्बी बढ़ जाती है, तो मोटापा उत्पन्न होकर शरीर को बेडौल बना देता है। मोटापा व्यक्ति के लिए मुसीबतों की जड़ ही नहीं, बल्कि अनेक छोटी-मोटी बीमारियों का कारण भी बन जाता है। ऐसे व्यक्ति की तन और मन से स्फूर्ति, उमंग और चंचलता चली जाती है।

कारण : मोटापा उत्पन्न होने के प्रमुख कारणों में खानदानी परंपरा (वंशानुगत), नलिका विहीन ग्रंथियां जैसे—थायराइड, पिट्यूटरी, एड्रीनल ग्लैंड्स के कार्यों में गड़बड़ी उत्पन्न होना, चयापचय संबंधी विकार, हार्मोन्स का असंतुलन, गलत खानपान, चर्बी बढ़ाने वाले आहार, घी, चावल, मक्खन, आलू, मिठाइयां, चीनी, केला, मांस, उड़द, बादाम आदि अधिक खाना, परिश्रम, व्यायाम न करना, दिन में सोना, आराम अधिक करना, मासिक धर्म नियमित न होकर कम होना, अधिक भोजन करना, तली हुई चीजें खाना आदि होते हैं।

Loading...

लक्षण : इस रोग में लक्षणों के रूप में चुस्ती-फुर्ती का अभाव, उत्साह की कमी, दैनिक कार्यों के करने में सुस्ती, थोड़े से कार्य करने पर भी थकावट, सांस फूलना, घबराहट, बेचैनी, अधिक पसीना आना, पसीने में बदबू, मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय की दुर्बलता, हृदय रोग, मासिक धर्म की अनियमितता, गुर्दे व मूत्र संबंधी विकार, वात विकार, गठिया, सर्दी-जुकाम, खांसी, हार्मोन्स संबंधी रोग आदि देखने को मिलते हैं।

What to eat during Obesity?

क्या खाएं

  • सादा, सुपाच्य, संतुलित भोजन करें।
  • भोजन आवश्यकता से कम मात्रा में ही सेवन करें।
  • टमाटर, लौकी, खीरे के रस में नीबू व शहद मिलाकर पिएं।
  • आलू को उबालकर, आग में सेंक कर खाएं।
  • सुबह खाली पेट एक गिलास पानी में एक नीबू का रस और शहद मिलाकर पिएं।
  • ककड़ी, कुलथी, टमाटर, पालक, चने की दाल खाएं।
  • छाछ में काला नमक और अजवाइन मिलाकर दोपहर के भोजन के बाद पिएं।
  • भोजन के साथ सलाद का नियमित सेवन करें।

What not to eat during Obesity?

क्या न खाएं

  • भारी, गरिष्ठ, तले, मिर्च-मसालेदार, चटपटे खट्टे खाद्य पदार्थ न खाएं।
  • मांस, मछली, अंडा, घी, तेल, मैदा, चीनी का सेवन न करें।
  • चावल, चॉकलेट, मिठाइयां, केला, तले आलू चिप्स, अंगूर से परहेज करें।
  • चाय, शराब, कोल्ड ड्रिंक्स न पिएं।
  • बादाम, पिस्ते, काजू, मक्खन, मलाई, रबड़ी, मुरब्बे न खाएं।
  • नमक का सेवन न करें।

Remedial Measures in Obesity Prevention.

रोग निवारण में सहायक उपाय


What to do during Obesity?

क्या करें

  • सुबह नियमित रूप से घूमने जाएं। रस्सी कूदना, दौड़ना जैसे व्यायाम करें।
  • जॉगिंग, साइक्लिंग, एरोबिक एक्सरसाइज, नृत्य आदि तथा योगासन करें।
  • नियमित रूप से सरसों के तेल से शरीर की मालिश करें।
  • नित्य शारीरिक परिश्रम करें।
  • सप्ताह में एक-दो बार उपवास करें और केवल फलों और तरकारियों का जूस सेवन करें।
  • कब्ज दूर करने के उपाय करें।

What not to do during Obesity?

क्या न करें

  • दिन में नींद न लें।
  • दिन भर आराम न करें।
  • भूखे रहकर डायटिंग न करें।
  • जल्दबाजी में भोजन न करें।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept