हिस्टीरिया पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

हिस्टीरिया – Hysteria

आयुर्वेद में इसे ‘योषापस्मार’ के नाम से जाना जाता है। योषा शब्द स्त्रीवाचक है और अपस्मार मिर्गी का द्योतक। यह रोग अविवाहित स्त्रियों को अधिक होता है। इस रोग में मिर्गी के समान दौरे पड़ते हैं।

कारण : हिस्टीरिया के प्रमुख कारणों में पर पुरुष से बलात्कार के कारण उत्पन्न खौफ, प्रेम में असफलता, काम वासना में अतृप्ति, प्रेमी से बिछुड़ना, शारीरिक मानसिक परिश्रम न कर आराम तलब जिंदगी गुजारना, अत्यंत भोग-विलास में जीवन व्यतीत करना, अश्लील साहित्य पढ़ना, उत्तेजक फिल्में देखना, श्वेत प्रदर से लंबे समय तक पीड़ित रहना, बांझपन, डिंबाशय व जरायु रोग, नाड़ियों की कमजोरी, आकस्मिक मानसिक आघात, मासिक धर्म का रुकना, कष्टपूर्ण मासिक धर्म, सास-बहू आदि परिवार के सदस्यों से तालमेल न बैठना, सामाजिक एवं पारिवारिक बंधनों में बंधना, चिंता, भय, शोक, मानसिक तनाव, अत्यधिक भावुक प्रकृति का होना, पति का वृद्ध, छोटा, बीमार होना या अन्य स्त्री से प्रेम का चक्कर, लंबे समय तक पति से दूर रहना, संभोग करने का मौका न मिलना, जवानी बीत जाने पर भी विवाह न होना, असुरक्षा की भावना, बुद्धि की कमी, किसी गुप्त पाप को मन में दबाए रखना आदि होते हैं।

Loading...

लक्षण : इस रोग के लक्षणों में रोगिणी को दौरा पड़ने से पूर्व आभास होने लगता है, लेकिन जब दौरा पड़ जाता है, तो उसे कुछ ज्ञान नहीं रहता। बेहोशी का दौरा 24 से 48 घंटों तक रह सकता है। के दौरान ही झटके आते हैं, गले की मांसपेशियां जकड़ जाती हैं, मुट्ठी बंध जाती है, दांत जाते हैं, कंपकंपी होती है, श्वास लेने में तकलीफ होती है, सांस रुकती-सी लगती है, पेट फूल जाता है, स्मृति का लोप हो जाता है, बहुत ज्यादा मात्रा में पेशाब होता है। इसके अलावा किसी-किसी रोगी में हाथ-पैर पटकना, सांसें तेज चलना, हृदय की धड़कन अधिक बढ़ जाना, भयंकर सिर दर्द, बेचैनी, असंभव बातें बोलना, कभी रोना, कभी हंसना, कभी गाना, उलटी करना, आंखें नचाना, बाल और शरीर नोंचना आदि लक्षण भी देखने को मिलते हैं।

What to eat during Hysteria?

क्या खाएं

  • गेहूं की रोटी, पुराना चावल, दलिया, मूंग की दाल, मसूर की दाल भोजन में खाएं।
  • फलों में पपीता, अंजीर, खीरा, संतरा, मौसमी, अनार, बेल के फल का सेवन करें।
  • आंवले का मुरब्बा सुबह-शाम के भोजन के साथ खाएं।
  • गाय का दूध, नारियल का पानी, मट्ठा या छाछ पिएं।
  • दूध में इच्छित मात्रा में शहद मिलाकर 10-12 किशमिश के साथ सेवन करें।

What not to eat during Hysteria?

क्या न खाएं

  • भारी, गरिष्ठ, बासी, तामसी भोजन न खाएं।
  • तली-भुनी, मिर्च-मसालेदार, चटपटी चीजें सेवन न करें।
  • चाय, कॉफी, शराब, तंबाकू, गुटखे से परहेज करें।
  • गुड, तेल, हरी-लाल मिर्च, खटाई, अचार न खाएं।
  • मांस, मछली, अंडा आदि से परहेज करें।

Remedial Measures in Hysteria Prevention.

रोग निवारण में सहायक उपाय


What to do during Hysteria?

क्या करें

  • मानसिक कारणों का मनोवैज्ञानिक से विश्लेषण कराकर उपचार कराएं।
  • सुबह घूमने जाएं। नियमित हलका-फुलका व्यायाम करें।
  • रोगिणी अविवाहित हो तो विवाह करवा दें।
  • एक मोहल्ले से दूसरे या एक शहर से दूसरे शहर में स्थान परिवर्तन कराएं।
  • रोगिणी से थोड़ा सख्त व्यवहार करें, लेकिन उसकी उपेक्षा न करें।
  • पति-पत्नी में सुलह करवाएं।
  • रोगिणी को दौरा पड़ने पर बदन के कपड़े ढीले कर दें। हवादार, साफ जगह में बिस्तर पर लिटाएं और सिर के नीचे तकिया लगा दें।
  • बेहोश रोगिणी के मुंह, आंखों पर ठंडे पानी के छीटे मारें।
  • होश में लाने के लिए नाक के नथुनों में प्याज या लहसुन का रस या अमृतधारा या कपूरसत की कुछ बूंदें टपकाएं।
  • गर्भाशय संबंधी विकारों के कारण दौरे पड़ रहे हों, तो स्त्री रोग विशेषज्ञ से इलाज कराएं।

What not to do during Hysteria?

क्या न करें

  • कब्ज या गैस बनने की शिकायत न होने दें।
  • रोगिणी से अत्यधिक सहानुभूति न जताएं।
  • अधिक मानसिक या शारीरिक परिश्रम तथा चिंता, भय, शोक न करें।
  • मल-मूत्रादि के वेगों को न रोकें।
  • एकांत निवास में रोगिणी को अकेला न छोड़ें।
  • अश्लील साहित्य न पढ़ें और न ही ऐसी फिल्में देखें।
  • धूम्रपान की आदत न पालें।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept