बिस्तर में पेशाब करना पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

बिस्तर में पेशाब करना – Bed Wetting

एक से डेढ वर्ष की उम्र के बच्चे अपने मूत्राशय पर नियंत्रण करना धीरे-धीरे सीख जाते हैं और पेशाब की हाज़त महसूस होने पर बड़ों को बताने या घर में हों, तो स्वयं बाथरूम में जाकर पेशाब करने लगते हैं। बिस्तर में सोते हुए निद्रावस्था में पेशाब करने की बीमारी बचपन में अधिक और युवावस्था में नगण्य होती है। चिकित्सा विज्ञान में इस बीमारी को एन्यूरेसिस के नाम से जाना जाता है। यदि 5-6 वर्ष की उम्र तक यह रोग कायम रहता है, तो बच्चा मनोवैज्ञानिक समस्या का शिकार हो सकता है।

कारण : इस बीमारी के उत्पन्न होने के प्रमुख कारणों में शारीरिक समस्याएं जैसे—पेट में कृमि होना, गुर्दों का ठीक से काम न करना, मधुमेह, मिर्गी, ब्लेडर का छोटा होना, मूत्राशय का शोथ, उसमें पथरी होना और मनोवैज्ञानिक समस्याएं जैसे—मंद बुद्धि, मानसिक रूप से अविकसित होना, असुरक्षा की भावना, भयानक स्वप्न देखना, हर समय डांट-डपट और सजा का भय, मन में चल रहे किसी द्वंद्व का नतीजा, परीक्षा का डर आदि होते हैं।

Loading...

लक्षण : बच्चा शर्म और संकोच के कारण भयातुर या विचारों में खोया-खोया सा रहता है। अंदरूनी रोग हो जाने पर पेट में दर्द तथा पेशाब में जलन की पीड़ा भी रह सकती है। संवेदनशील बच्चे बिस्तर गीला करते हैं।

What to eat during Bed Wetting?

क्या खाएं

  • सादा, सुपाच्य, संतुलित भोजन खाएं।
  • रोजाना सोते समय 5 मुनक्का या 2 छुहारे खाएं।
  • काले तिल के गुड़ में बने लड्डू या गजक भोजन के दाद सेवन करें।
  • 2 अखरोट 2 चम्मच शहद के साथ सोते समय खाएं।
  • फलों में पपीता, अमरूद, संतरा, केला, मौसमी, चीकू, आंवला, खाएं।
  • प्यास लगने पर छाछ पिएं।

What not to eat during Bed Wetting?

क्या न खाएं

  • तले, भुने, मिर्च-मसालेदार, चटपटी या अधिक नमकीन चीजें न खाएं।
  • चाकलेट, टॉफी, मिठाई, ब्रेड, जैम, जैली, क्रीम रोल, आइसक्रीम का सेवन न करें।
  • सोने से पूर्व चाय, कॉफी, दूध, पानी न पिएं।

Remedial Measures in Bed Wetting Prevention.

रोग निवारण में सहायक उपाय


What to do during Bed Wetting?

क्या करें

  • सोने के पूर्व पेशाब अवश्य करें।
  • दिन भर में पेय पदार्थों की मात्रा कम कर दें।
  • बाई करवट सोने की आदत डालें।
  • बच्चे में आत्मविश्वास जगाएं। दूसरे से उसकी तारीफ करें।
  • जिस रात्रि में बच्चा पेशाब न करें, तो सुबह उसे शाबाशी देकर प्रोत्साहित करें।

What not to do during Bed Wetting?

क्या न करें

  • सोने के एक-दो घंटे पूर्व से पेय पदार्थ या पानी न पिएं।
  • चित लेटकर न सोएं।
  • बच्चे को परिवार या मित्रों के सामने हास्य का पात्र न बनाएं।
  • डरावनी, हिंसक फिल्में, टी.वी. के कार्यक्रम रात्रि में न देखें।
  • मार, पीट, सजा देना या डांट-डपट कर बच्चे के मन में भय उत्पन्न न करें।
Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept