नाभि खिसकने का घरेलू इलाज (Home remedies for navel displacement)

नाभि खिसकने का घरेलू इलाज 

नाभि खिसकने के बारे में तो आप सब लोग जानते ही होंगे, वैसे तो यह एक आम समस्या है, लेकिन अगर ऐसा बार-बार होता है तो यह गंभीर समस्या का रूप ले सकता है।

जिस तरह रीढ़ की हड्डी में टेढ़ापन या शरीर में किसी हिस्से की नस चढ़ जाने जैसी समस्या होती है, ठीक वैसे ही नाभि का खिसकना भी एक समस्या है, वैसे नाभि का खिसकना तो एक आम बात है, लेकिन ऐसा बार-बार होना, पेट दर्द, जलन, उल्टी-दस्त, और भी कई सारी समस्याओं का कारण बन सकती है।

Loading...

ज्यादातर नाभि खिसकने की समस्या, दौड़ने, उछल-कूद करने, सेक्स, एवं क्षमता से अधिक वजन उठाने या गलत व्यायाम करने से होती है।

आज जो महत्वपूर्ण जानकारी हम आप सब लोगो से शेयर करने जा रहे है, उसमें आप को बताया जाएगा कि नाभि के खिसकने के लक्षण, कारण और इससे बचने के घरेलू उपायों के बारे मे –

नाभि खिसकने के लक्षण

1. जब नाभि ऊपर या नीचे की ओर खिसक जाती है, तब पेट में दर्द, जलन, उल्टी-दस्त, घबराहट, स्वप्न दोष और पाचन तंत्र में विभिन्न प्रकार की समस्या उत्पन्न होने लग जाती है।

2. ‎नाभि के दाई या बाई ओर खिसकने पर पेट सख्त हो जाता है और आँतों में तेजी से दर्द उठने लगता है।

3. ‎महिलाओं में नाभि के खिसकने पर मासिक धर्म के दौरान, विभिन्न प्रकार की समस्या का आना शुरू हो जाता है।

नाभि खिसकने के कारण

नाभि का खिसकना कोई बड़ी बात नहीं है, यह अधिकतर लोगों को होता रहता है, नाभि खिसकने के बहुत से मुख्य कारण हो सकते हैं। जैसे :-

1. दौड़ना, उछल-कूद करना या क्षमता से अधिक वजन उठाना।

2. ‎दिमाग में किसी काम का प्रेशर लेना या किसी चीज़ को लेकर अत्यधिक सोचना।

3. ‎ठीक ढंग से बैठकर भोजन का सेवन ना करना।

4. ‎पानी या खाना खाकर व्यायाम करना।

5. ‎व्यायाम को गलत तरीके से करना।

6. मानसिक तनाव या चिंता का होना।

नाभि खिसकी है या नही इसकी जाँच कैसे करें ।

चलिए हम आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बताते हैं, जिससे आप किसी भी समय यह जान सकते हैं कि नाभि खिसकी है या नहीं।

1. निप्पल की दूरी से नाभि खिसकने का पता लगाना :- इस प्रक्रिया में नाभि खिसकी है या नहीं इसका पता लगाने के लिए आपको एक रस्सी के छोर को अपने दोनों निप्पल के बीच में रखना है, फिर उसके दूसरे छोर को नाभि की ओर लटकाना है, अगर रस्सी का दूसरा छोर नाभि को छु रहा है तो इसका मतलब घबराने की कोई बात नहीं है, लेकिन अगर रस्सी का छोर नाभि को नहीं छु रहा है तो इसका मतलब नाभि अपनी जगह से खिसक गयी है।

2. नाभि में नस की धड़कन महसूस करना :-इस प्रक्रिया में आपको ज़मीन पर सीधे लेट जाना है, फिर आपको अपने हाथ के अँगूठे को नाभि वाली जगह पर रखना है, अगर आपको किसी तरह की धड़कन महसूस हो तो इसका मतलब नाभि अपनी सही जगह पर है, आपको घबराने की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन अगर धड़कन का होना महसूस नहीं होता तो इसका मतलब नाभि अपनी जगह से खिसक गई है।

चलिए अब जानते हैं, नाभि के खिसकने पर उपयोग होने वाले घरेलू उपायों के बारे में-

नाभि के खिसकने पर उपयोग होने वाले बहुत से लाभदायक नुस्ख़े हैं, जिनका इस्तेमाल हमारे बुजुर्गो के जमाने से किया जा रहा है और यह नुस्ख़े आज भी बहुत लाभदायक है।

मसाज द्वारा :- इस नुस्खे में तेल द्वारा पेट की मसाज की जाती है और नाभि को सही जगह लाने का प्रयास किया जाता है। यह प्रक्रिया 100% लाभदायक है। लेकिन इस प्रक्रिया को किसी अनुभवी व्यक्ति द्वारा ही किया जाना चाहिए, क्योंकि इस पर पैरों पर मसाज करके नाभि की ओर दबाव बनाया जाता है, इस प्रक्रिया में जरा भी गलती होने पर आपको दूसरी समस्या भी हो सकती है।

वैक्यूम थैरेपी से करें नाभि का उपचार :- इस प्रक्रिया में वैक्यूम थैरेपी का इस्तेमाल किया जाता है, जिसमें एक सक्शन पम्प का इस्तेमाल किया जाता है। इस प्रक्रिया में पम्प का जो कप होता है वह नाभि में चिपक जाता है। पम्प कुछ देर के पश्चात नाभि से निकल जाता है, जिससे नाभि फिर अपनी सही जगह पर आ जाती है।

नाभि खिसकने पर किये जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण योगासन

नाभि के अपनी जगह से खिसकने पर, योगासन करने से बहुत लाभ होता है। ऐसा मानना है कि नाभि खिसकने पर चक्रासन, वज्रासन और मत्स्यासन जैसे महत्वपूर्ण आसन करने से नाभि खिसकने की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। याद रहे कि कोई भी योगासन करने से पहले उसकी विधि अच्छे से जान ले, गलत योगासन से नाभि में और भी गंभीर समस्या उत्पन्न हो सकती है।

 

अगर आपको ये जानकारी एवं लेख अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें ।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept