पेचिश का घरेलू इलाज

0
939

पेचिश – Dysentery


What is the cause of Dysentery?

पेचिश होने का कारण क्या है।

जब आंव या रक्त मिश्रित चिकना मल थोड़ी-थोड़ी मात्रा में मरोड़, दर्द व जलन के साथ होता हो, तो इसे पेचिश (प्रवाहिका) रोग समझना चाहिए । यह रोग वर्षा व गर्मी के मौसम में विशेष रूप से तीर्थों, शिविरों, मेलों आदि में भोजन तथा जल के दूषित होने से फैलता है।

What are symptoms of Dysentery?

पेचिश के लक्षण क्या है।

यह रोग एकाएक प्रारंभ होता है। पेट के निचले हिस्से में दर्द व मरोड़ के साथ दस्त शुरू होते हैं, जो पतले होते चले जाते हैं।

Home Remedies for Dysentery.

पेचिश का घरेलू चिकित्सा।

  • बेलगिरी के फल के गूदे का चूर्ण या ईसबगोल की भूसी एक चम्मच की मात्रा में उबालकर ठंडे किए हुए पानी के साथ दें।
  • बेलगिरी के फल के गूदे का चूर्ण व काले तिल 8 : 2 के अनुपात में मिलाकर 1 चम्मच कीं मात्रा में दही के साथ तीन बार दें।
  • ईसबगोल के बीज 1 चम्मच की मात्रा में आधी भुनी चीनी की बराबर मात्रा के साथ दिन में तीन बार दें।
  • जायफल, लौंग, जीरा और सोहागा समान मात्रा में लेकर, कूटकर चूर्ण बनाएं। इसे एक-एक चम्मच छाछ के साथ दिन में तीन बार दें।
  • तीन चम्मच धनिए का चूर्ण बराबर मात्रा में मिसरी लेकर पानी में घोलकर दिन में दो बार पिलाएं ।
  • नीबू का रस डालकर फाड़ा हुआ दूध तीन-तीन घंटे के अंतर से रोगी को दें। .
  • एक चम्मच ईसबगोल को सात-आठ चम्मच गुलाब जल में पकाएं व उसमें दूध डालकर चार-चार घंटे के अंतर से रोगी को पिलाएं।
  • एक भाग भुनी हुई सौंफ, एक भाग बिना भुनी सौंफ व दो भाग मिसरी को मिलाकर कूट-पीस लें। एक से डेढ चम्मच की मात्रा में उबले हुए पानी के साथ तीन बार दें। ,
  • सूखा धनिया व बेलगिरी समान मात्रा में लेकर कूट लें। फिर इन दोनों के बराबर मिसरी मिला लें। एक चम्मच की मात्रा में दिन में तीन बार उबाल कर ठंडा किए हुए पानी के साथ दें।
  • रोगी को सुबह-शाम आलू बुखारे खिलाएं ।
  • मीठे आम के 100 ग्रा. रस में 25 ग्रा. दही व 2 ग्रा. अदरक का रस मिलाकर सुबह-शाम रोगी को पिलाएं ।
  • सुबह खाली पेट एक पाव नाशपाती खाएं।
  • बेलगिरी का शरबत दिन में चार-पांच बार दें।

Ayurvedic Medicine for Dysentery.

पेचिश का आयुर्वेदिक औषधियां द्वारा इलाज।

बिल्वादि चूर्ण, शतपुष्पादि चूर्ण, चतुषष्टप्रहरी पिप्पली, कुटजारिष्ट, कुटज अवलेह लघु गंगाधर चूर्ण।

Other medicine available in stores by various manufacturers for Dysentery.

पेचिश का पेटेंट औषधियां द्वारा इलाज।

मरोड़ हरण चूर्ण (शिवायु), एंटी डीसेन्ट्रोल (ऊंझा), अमीबिका गोलियां (बैद्यनाथ) दीपन गोलियां (चरक), एम्बीमैप गोलियां (महर्षि आयुर्वेद), एमाइडो फोर्ट गोलियां व सीरप (एमिल) भी पेचिश में प्रभावकारी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here