धातु रोग के घरेलू उपाय (dhatu rog ke gharelu upaay)

धातु रोग के घरेलू उपाय

धातु रोग एक बहुत ही गंभीर बीमारी है। यह आपके दिमाग और शारीरिक शक्ति को कम कर सकता है। इस बीमारी मे मात्र सेक्स से संबंधित सोचने या रात को गलत सपने देख लेने से भी वीर्य बाहर निकल जाता है। पेशाब करते वक्त प्रेशर देने से भी वीर्य बाहर निकल जाता है। ऐसा अक्सर बचपन की ग़लतियों या शारीरिक समस्या की चलते होता है, जिसमे आपके लिंग की नसे सिकुड़ने लगती है। लिंग छोटा और पतला हो जाता है, जिसके बाद आपके लिंग की नसों मे वो क्षमता नही होती है, जो बहते हुए वीर्य को रोक सके। ऐसी समस्या को धातु रोग कहते है।

धातु रोग के होने के बहुत से कारण हो सकते है। जैसे;- गलत सपने या पोर्न देखना, हस्थमैथुन करना, पेशाब करते समय प्रेशर देना, लिंग की नसे सिकुड़ना, धूम्रपान, शरीर मे कमज़ोरी और विटामिन की कमी होना और भी बहुत से कारण है।

Loading...

धातु रोग होने पर बहुत से प्रकार के लक्षण देखे जाते है। जैसे;- कमजोरी होना, रात के समय वीर्य धूल जाना, लिंग की नसे कमजोर हो जाना, पेशाब करते समय वीर्य ढुल जाना। और भी बहुत से लक्षण देखे जाते है।

इस लेख में हम आपको बताएँगे की धातु रोग से छुटकारा पाने के घरेलू इलाज क्या है। जिससे आप घर पर ही धातु रोग का इलाज कर सकते हो।

धातु रोग के इलाज में करें कौंच के बीज का उपयोग

धातु रोग का मुख्य कारण हमारे वीर्य का पतला होना भी है। वीर्य के पतले होने के कारण ही पेशाब करते समय हल्का सा जोर लगाने पर ही वीर्य निकल जाता है। वीर्य को गाढ़ा करने के लिए कौंच का बीज काफी लाभदायक होता है। साथ ही यह शरीर की कमज़ोरी और बालों की समस्या के लिए भी काफी उपयोगी होता है। 100 से 150 ग्राम कोंच के बीज के पाउडर को एक गिलास गर्म दूध और मिश्री मे मिलाकर पीने से आपका वीर्य गाढ़ा होता है। और धातु रोग से छुटकारा मिलता है।

धातु रोग में करें सफेद मूसली का उपयोग

सफेद मूसली स्वप्नदोष,शीघ्रपतन, वीर्य का पतला होना, धातु रोग इन सभी समस्याओं को खत्म कर देने वाला रामबाण उपाय है। सफेद मुसली का उपयोग करने के लिए सबसे पहले मुसली चूर्ण, अश्वगन्धा चूर्ण, शतावरी चूर्ण को मिलाकर एक डब्बे मे इसका मिश्रण तैयार कर ले। फिर रोज़ाना एक गिलास गर्म दूध मे घी डालकर उस मिश्रण की एक चम्मच दूध मे मिलाकर इसका सेवन करें आपको थोड़े ही दिनों मे इसका असर दिखना शुरू हो जाएगा।

धातु रोग के इलाज में करें लौकी का उपयोग

धातु रोग से उत्पन्न होने वाली एक समस्या स्वप्नदोष भी है, जो की बहुत गंभीर समस्या है। स्वप्नदोश से बचने के लिए रोज लौकी के जूस का सेवन करना चाहिए। यह आपको स्वप्नदोष से छुटकारा दिलाता है, और धातु रोग की समस्या से बचाता है। लौकी आपको गहरी नींद लेने मे भी सहायता करती है, जो की वीर्य को गाढ़ा करने काफी उपयोगी होती है।

धातु रोग के इलाज में करें प्याज का उपयोग

प्याज धातु रोग के इलाज में किसी और चीज की अपेक्षा मे काफी ज्यादा फ़ायदेमंद होता है। प्याज शरीर की कमज़ोरी को दूर करता है। और नसों मे खून के बहाव को नियंत्रित करता है, जिससे धातु रोग मे लिंग का सिकुड़ना बंद हो जाता है। प्याज स्वप्नदोष की समस्या से छुटकारा पाने के लिए भी काफी उपयोगी होता है। प्याज आपकी मर्दाना ताकत को भी बढ़ाता है। प्याज वीर्य को गाढ़ा करने के लिए भी काफी फ़ायदेमंद होता है। प्याज का इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले एक प्याज को पीस ले फिर उसका रस निकाल ले। रस निकालने के बाद उस रस मे एक चम्मच शहद मिलाकर उसे चाट ले। इस प्रक्रिया को रोज़ाना करने से धातु रोग की समस्या से जल्दी छुटकारा मिलता है।

धातु रोग के इलाज में करें दही का उपयोग

दही आपकी शारीरिक कमजोरी को दूर करने में काफी फायदेमंद होता है, जो की धातु रोग की एक मुख्य समस्या है। दही आपको गहरी नींद लाने मे मदद करता है, और वीर्य को गाढ़ा करने मे भी काफ़ी उपयोगी होता है। धातु रोग के इलाज के लिए रोज सुबह और रात को सोते समय एक-एक कटोरी दही का सेवन ज़रुर करे।

धातु रोग में करें आम का सेवन

आम शरीर की कमजोरी को दूर करता है। आम वीर्य को गाढ़ा करता है। धातु रोग मे सेक्स इच्छा कम होने लगती है। आम आपकी काम उत्तेजना को बढ़ाता है। रोज सुबह आम के रस का सेवन करने से धातु रोग की समस्या से जल्द से जल्द छुटकारा मिलता है।

धातु रोग के इलाज में करें तरबूज का सेवन

लिंग की नसे सिकुड़ने के कारण धातु रोग उत्पन्न होता है, क्योंकि नसों के कमजोर होने के कारण वह वीर्य को बहने से रोक नही पाती है। इसके लिए आपको तरबूज का इस्तेमाल ज़रूर करना चाहिए । तरबूज मास पेशियों को आराम पहुँचाता है। और हमारे शरीर और लिंग की नसों को मोटा करके उसमे तेजी से खून पहुंचाने लगता है, जिससे नसों के सिकुड़ने की समस्या खत्म हो जाती है। और धातु रोग की समस्या से जल्दी छुटकारा मिलता है। आप तरबूज को सीधा खाकर या उसका ज्यूस बनाकर सेवन कर सकते हो।

धातु रोग में करें दूध केले का सेवन

दूध मे केले मिलाकर पीने से शारीरिक कमज़ोरी दूर होती है। मर्दाना ताकत बढ़ती है। दूध केले के सेवन से वीर्य गाढ़ा होता है। और वीर्य बहने की समस्या से छुटकारा मिलता है। रोज़ाना दूध मे केले मिलाकर इसका शेक तैयार करके इसका सेवन करें। इससे धातु रोग की समस्या से जल्द से जल्द छुटकार मिलता है।

धातु रोग में करें गाजर और शहद का उपयोग

गाजर शारीरिक कमजोरी को दूर करने एवं वीर्य को गाढ़ा करने मे काफी उपयोगी माना जाता है। रोज़ाना गाजर ज्यूस का सेवन करने से धातु रोग से छुटकारा मिलता है। साथ ही शहद भी धातु रोग की समस्या के लिए काफी उपयोगी होता है। शहद हमारे वीर्य को गाढ़ा करता है। और वीर्य को बहने से रोकता है। रोज़ाना 1 चम्मच शहद का सेवन करने से धातु रोग की समस्या से जल्दी छुटकारा मिलता है।

 

अगर आपको ये जानकारी एवं लेख अच्छी लगी तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें ।

Loading...

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept