नाक से खून (नकसीर) की समस्या का घरेलू उपाय (Home remedies for nose bleeding)

नाक से खून (नकसीर) की समस्या का घरेलू उपाय नाक से खून बहने की समस्या को नकसीर कहा जाता है। वैसे नकसीर की समस्या कोई ज्यादा गंभीर समस्या भी नहीं है, यह आसानी से किसी को भी हो सकता है। गर्म चीजों का ज्यादा सेवन करने से भी नकसीर की समस्या हो…
Read More...

बलगम ( कफ ) से छुटकारा पाने का घरेलू इलाज [ Gale Aur Chati Me Balgam Ka Gharelu ilaj ]

बलगम की समस्या एक बहुत बड़ी समस्या नही है, पर जब ये हो जाती है तो कोई भी व्यक्ति चाहे वो बडा हो या छोटा को बहुत परेशान कर देती है। ये अक्सर सर्दी की वजह से होती है, इसके होने से नाक का बंद होना, गले में खराश हो जाना, बोलने पर गले में दर्द…
Read More...

बहती नाक को रोकने के लिए घरेलू इलाज [ Naak Bahne Ka Gharelu ilaj ]

तरह-तरह की बीमारियों में से "नाक बहना" एक बहुत ही छोटी व परेशान कर देने वाली समस्या है, ये इंसान को अंदर से झकझोर देती है, इसके मुख्य कारण सर्दी लगना, जुखाम होना, नाक की नलिका में बलगम बढ़ना होता है। नाक बहना जल्दी बंद ना करें तो ये सिर दर्द…
Read More...

नसों में होने वाले दर्द का घरेलू इलाज [ Home Remedies For Neuropathic Pain In Hindi ]

रोजाना जीवन में व्यक्ति को तरह-तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, इनमें से "नसों में दर्द" एक अहम परेशानी है। नसों में दर्द होना गंभीर बीमारी का लक्षण नही है परंतु कभी- कभी ये बहुत घातक साबित हो जाता है, अगर आपके नसों में दर्द है तो…
Read More...

कान बहने से रोकने के घरेलू इलाज [ Kaan Behne Ka Gharelu ilaj ]

कान बहना एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसमे आपके कानों से किसी प्रकार का तरल पदार्थ बहने लग जाता है। कान से किसी तरह के पदार्थ का बहना एक आम बात है। यह बहुत सी समस्या के कारण हो सकता है। जैसे :- कान मे फोड़े-फुंसी होना, कान के पर्दे का श्रतिग्रस्त…
Read More...

सांस फूलने की समस्या का घरेलू इलाज [ Home Remedies For Wheezing Problem In Hindi ]

सांस फूलने जैसी समस्या तो आमतौर पर सभी लोगों के साथ होती है, लेकिन अगर ऐसा बार-बार होता है, तो यह एक बेहद खतरनाक बीमारी है। सांस फूलने की इस बीमारी को डिस्पनिया के नाम से भी जाना जाता है । सांस फूलने की समस्या के बहुत से कारण हो सकते हैं…
Read More...

घाव के निशान मिटाने का घरेलू इलाज [ Ghav Ke Nishan Mitane Ke Upay ]

ऐसा बहुत बार होता है कि किसी दुर्घटना या त्वचा से संबंधित बीमारियों की वजह से हमारे शरीर मे कई प्रकार के घाव उत्पन्न हो जाते हैं। इस प्रकार के घाव समय के साथ जल्दी से ठीक तो हो जाते हैं, लेकिन इनके जो निशान हैं, वह आसानी से नही जाते और अगर…
Read More...

खाद्य पदार्थों में बढ़ता रंगों के ज़हर

खाद्य पदार्थों में बढ़ता रंगों के ज़हर Increasing poisonous effect of Food coloring आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि गरमा गरम जलेबी, लड्डू में पड़ा पीला रंग, शीतल पेय, आइसक्रीम, कैचप और जैम इत्यादि में. इस्तेमाल होने वाले विभिन्न रंग तथा…
Read More...

साबुन का अधिक प्रयोग त्वचा के लिए हानिकारक

साबुन का अधिक प्रयोग त्वचा के लिए हानिकारक Use of excessive soap is harmful to the skin यद्यपि रंग-रूप, नाक-नक्श की सुंदरता प्राकृतिक देन है, फिर भी त्वचा का सौंदर्य और उसकी सफाई करने में साबुन का प्रयोग महत्त्वपूर्ण होता है। यदि आपकी…
Read More...

शीतल पेय के स्थान पर फलों का जूस पिएं

शीतल पेय के स्थान पर फलों का जूस पिएं Drink fruit juice instead of soft drink समाचार पत्रों, रेडियो, सिनेमा के पर्दे और टी.वी. पर किए गए शीतल पेयों (कोल्ड ड्रिंक्स) के आकर्षक, धुंआधार विज्ञापनों के कारण अब शहरों से गांवों तक गर्मी के…
Read More...

सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग खतरनाक हो सकता है

सौंदर्य प्रसाधनों का प्रयोग खतरनाक हो सकता है Using cosmetics can be dangerous स्वयं को सुंदर और आकर्षक दिखाने की प्रवृत्ति के कारण ही आजकल सौंदर्य प्रसाधनों का प्रचलन सर्वाधिक होने लगा है। बिना मेकअप किए अब व्यक्तित्व अधूरा-सा लगता है।…
Read More...

हिस्टीरिया पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

हिस्टीरिया - Hysteria आयुर्वेद में इसे 'योषापस्मार' के नाम से जाना जाता है। योषा शब्द स्त्रीवाचक है और अपस्मार मिर्गी का द्योतक। यह रोग अविवाहित स्त्रियों को अधिक होता है। इस रोग में मिर्गी के समान दौरे पड़ते हैं। कारण : हिस्टीरिया के…
Read More...

हृदय के रोग पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

हृदय के रोग - Heart Diseases हृदय रोग गत सौ वर्ष पूर्व घातक रोगों की सूची में छठे क्रम पर था, लेकिन अब यह क्रम एक पर आ गया है। इसकी वजह यह है कि आजकल की मशीनी रफ्तार वाली जिंदगी में बढ़ रहे मानसिक तनाव, दूषित वातावरण तथा चकाचौंध भरे…
Read More...

हकलाना । तुतलाना पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

हकलाना । तुतलाना - Stammering सामान्यतः डेढ से दो साल की उम्र से बच्चा अपने आसपास की चीजों को देखकर तथा दूसरों की आपस में की गई बातचीत को सुनकर बोलने की कोशिश करता है। जब वह बोलना शुरू करता है, तो उसकी बोली बाल सुलभ मिठास लिए कुछ अटपटी और…
Read More...

सूर्यावर्त । आधासीसी । माइग्रेन पर क्या खाएं, क्या न खाएं और रोग निवारण में सहायक उपाय

सूर्यावर्त । आधासीसी । माइग्रेन - Hemicrania ~ Migraine यह रोग स्त्रियों को अधिक होता है। इसमें सिर के दाहिने या बाएं आधे भाग में बेचैन कर देने वाला दर्द होता है, इसीलिए इसे आधासीसी कहते हैं। सूर्य के बढ़ने के साथ-साथ दर्द बढ़ने के कारण…
Read More...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept